विश्व को जीतने का सपना देखने वाले सिकंदर इतिहास में महान सिकंदर कैसे बन गया

SIKANDER YUD

विश्व को जीतने का सपना देखने वाले सिकंदर इतिहास में महान सिकंदर कैसे बन गया

सिकंदर महान के गुरु अरस्तु ने विश्व को जीतने का सपना सिकंदर को दिखया फारसी में उसे एस्कंदर-ए-मक्दुनी (मॅसेडोनिया का अलेक्ज़ेंडर) औऱ हिंदी में सिकंदर महान कहा जाता है। एस्कंदर ने अपने चचेरे और सौतेले भाईयों को मरकर सिकंदर ने राजगद्दी आपने लिया एस्कंदर (सिकंदर) की युद्ध रणनीतियां इतनी अच्छी और प्रभावशाली हुआ करती थी, जिसके कारण सिकंदर की छोटी सी सेना भी बड़ी-बड़ी सेनाओं को धूल चाट दिया करती थी।

अपने विश्व विजेता बनने के सपने को पूरा करने के लिए किन किन देश को जीता

सिकंदर ग्रीस से मिस्र, सीरिया, बॅक्ट्रिया, ईरान, अफगानिस्तान और पाकिस्तान को जीतता हुआ व्यास नदी तक पहुंच आया था ।

भारत पर सिकंदर के आक्रमण

सिकंदर के भारत पर आक्रमण करने से पहले ही कुछ राजो ने बिना युद्व लड़े ही सिकंदर के आगे अपनी हार स्वीकार कर ली पर सिकंदर को ये पता नहीं था की भारत में कुछ ऐसे राजा भी थे जो सर कटा सकते थे पर हार नहीं मन सकते थे चंद्र गुप्त मोरिया और राजा पारस भी थे

सिकंदर के विश्व विजेता की सपनो को राजा पोरस ने चकना चूर कर दिया और विश्व विजेता बनने का सपना अधूरा रह गया।

भारतीय इतिहासकार राजा पोरस को पुरु भी कहते हैं। राजा पोरस एक महान राजा थे जिनके राज्य
का विस्तार झेलम नदी से चिनाब नदी तक था। 340 ईसापूर्व से 315 ईसापूर्व तक का समय राजा पोरस
का शासन था जब राजा पोरस के पास सिकंदर की प्रस्ताव आया और राजा पोरस अधीनता स्वीकारने से इंकार कर दिया तो युद्ध तो होना ही था ये युद्ध बहुत चर्चित रहा पितस्ता का युद्ध जिसे ‘हाइडेस्पेस का युद्ध’ भी कहा जाता है।

हाइडेस्पेस’ झेलम नदी का ग्रीक नाम है सिकंदर के सामने एक बड़ी समस्या थी वो समस्या झेलम नदी पार करने का था झेलम नदी पार करके पोरस से युद्ध करना था परन्तु झेलम नदी में बाढ़ आ जाने के कारण ऐसा कर पाना आसान नहीं था। यवन सेना नदी के पार पहुँचने में सफल हो गयी सिकंदर ने राजा पोरस के पास अधीनता स्वीकारने का प्रस्ताव भेजा जिसे ठुकराए जाने के बाद दोनों में भयंकर युद्ध हुआ।

युद्ध के प्रथम दिन ही सिकंदर की सेना को राजा पोरस की सेना ने पानी पीला दिया सिकंदर की सेना को और कोई भी युद्व को जीत नहीं पाया। जिसके चलते सिकंदर की सेना का मनोबल टूटने लगा।
सिकंदर ये समझ चुका था कि इस युद्ध को आगे बढ़ाने से उसे सिर्फ हार ही मिलेगी और सिकंदर ने युद्ध रोकने का प्रस्ताव भेजा दिया राजा पोरस के पास और सिकंदर के विश्व विजेता बनने का सपना अधूरा ही रह गया।

इन सभी तथ्यों में कितना सचाई है, ये तो इतिहास में छुपा हुआ है लेकिन हम ये ज़रूर कह सकते हैं कि सिकंदर और पोरस दोनों ही बहादुर योद्धा थे।

सिकंदर का मृत्यु का रहस्य

मन जाता है की मात्र 33 वर्ष की अल्पायु में बीमारी के कारण सिकंदर की मृत्यु हो गयी थी और राजा पोरस की मृत्यु के सन्दर्भ में ये माना जाता है कि किसी साजिश के तहत उनकी हत्या करवा दी गयी थी।

Releated Post

15 thoughts on “विश्व को जीतने का सपना देखने वाले सिकंदर इतिहास में महान सिकंदर कैसे बन गया

  1. Discount Generic Accutane Viagra Bestellen Serios Secure Bentyl 20mg Dibent Website Internet Pharmacy Online cialis Amoxicillin Drug Interactions With Herbal Supplements Buy Orlistat Usa No Prescription Cytotec 5 Mg

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *